Saturday, October 22, 2016

सपने

Indian Bloggers

कल सुबह जब उठो तो सुनहरी धूप की गर्मी में कुछ पल नहाना
नमी में डूबे गीले पत्तों को सहलाना
नए दिन की शुरुआत का गीत गाते परिंदों को सुनना
बदल रहे मौसम के इशारे समझना
गर्म दिनों में सुबह की मंद शीतल पवन से अंतर्मन को पुलकित करना
पतझड़ हो तो गिर रहे पत्तों की बारिश में कुछ पल खो जाना
शिशिर ऋतु की ठंडी बर्फ से देह और मन को चकित करना
वसन्त में नन्हे पौधों से थोड़ी बातें करना।.....

जानती हूँ तुम्हारे सपनों की तालिका बहुत लंबी है
बहुत दूर तक जाना चाहते हो
सितारे छूना चाहते हो
पर उन सितारों को देखने वाला भी तो कोई होना चाहिए
वो ऊपर आसमान में टिमटिमाते चाँद और तारे यूँ ही तो नहीं बने
अस्पष्ट अँधेरी रातों में जाने कितनों को राह दिखाते हैं
अपने अस्तित्व को सार्थक बनाते हैं।

अकेले भागते रहे तो कभी थकोगे भी, कभी गिरोगे भी
कोशिश करना कि कोई हो जो तुम्हे थाम ले, उन पलों में संभाल ले
तुम्हे टूटने से पहले समेट ले, तुम्हे बिखरने से पहले बटोर ले
तुम्हे याद दिलाये फिर से मुस्कुराना
कुछ पल ठहरना
फिर से चहकना
फिर से खिलखिलाना
सपनों की वजह से पीछे छूट रही ज़िन्दगी को
फिर से थामना
फिसलते जा रहे ख़ुशी के लम्हों को
संजोना
याद रखना कि सपने कुछ पूरे होंगे
कुछ अधूरे रह जाएंगे
पर ज़िन्दगी के गुज़रते लम्हे फिर वापस नहीं आएँगे।

Image Source


Linking to Write Tribe's  #FridayReflections prompt

“It does not do to dwell on dreams and forget to live.” – J K Rowling, Harry Potter and the Philosopher’s Stone. Use this quote in your post or as an inspiration for one.




31 comments:

  1. सुनैना, सही कहा आपने। बिता हुआ पल कभी भी वापस नहीं आता। इन पलोंं को अच्छे से जिने के लिए किसी अपने का साथ जरुरी है। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. और हम ये तब समझते हैं जब ज़िन्दगी के पल हाथ से रेत की तरह फिसल जाते हैं

      Delete
  2. Bahut sundar aur sahi likha hai 👍

    ReplyDelete
  3. Loved your poem, Sunaina! It is important to live life as much as dreams are needed to set the goals. Life slips by in those quiet everyday moments that we often take for granted and you brought this out so well in this post.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes, Esha....I am thankful for the prompt that made me write this....

      Delete
  4. This is so beautiful Sunaina. The poem is brimming with emotions, intuitions and dreams but ultimately it's the reality that wins. Your poem has so beautifully portrayed that despite all the unanswered prayers and unfulfilled dreams, life is still beautiful with all its complexities.
    Loved the choice of words and felt the emotions to the core. :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. True Sangeeta.....We have to keep dancing to the beat of the drum...

      Delete
  5. Bahut accha..dil se likha hai..agree with u :)

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्‍दर भावों को शब्‍दों में समेट कर रोचक शैली में प्रस्‍तुत करने का आपका ये अंदाज बहुत अच्‍छा लगा,
    हर शब्द अपनी दास्ताँ बयां कर रहा है आगे कुछ कहने की गुंजाईश ही कहाँ है बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद्.... मुझे ख़ुशी है कि आप मेरे विचार समझ पाए

      Delete
  7. I found it so beautiful that I have no words to offer as comments:(
    The only thing I can say is that I read it thrice in 15 minutes:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. You already said it.....Thanks for so much appreciation....

      Delete
  8. Wonderful words...straight from the heart.... :-)

    ReplyDelete
  9. Hope all your dreams come true... kuchh bhi adhuara na rahe

    ReplyDelete
    Replies
    1. All will not come true...it can never because one thing gets over, we chase another, and then another, and then another.....there is no end.....but we do need stop and smell the roses.....

      Delete
  10. I felt it, each and every word that you weaved together so beautifully in this heartfelt poem. It is so important to share whatever life brings along with everyone near and dear around, otherwise there remains no life in life itself. Simply beautiful!

    ReplyDelete
    Replies
    1. I am so happy that my thoughts resonated with you....!

      Delete
  11. That's such a beautiful expression and a great take on the prompt!

    ReplyDelete
  12. मेरे घर के पीछे जंगल-सा है । हर सुबह चिडियों का झुण्ड चिल्ला-चिल्ला कर हल्ला मचाता है । पहले झल्लाहट होती है, लेकिन साथ ही एक मुस्कान-सी भी आ जाती है । दिन का सबसे मासूम और सुंदर क्षण होता है वह :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. वो चिड़ियों की चहचहाट कहती है कि प्रकृति की सुंदरता और सादगी में डूब जाओ - कुछ पल के लिए ही सही जीवन की उथल-पुथल से खुद को मुक्त कर लो ....

      Delete